SBI Hikes MCLR : अगर आप स्‍टेट बैंक ऑफ इंड‍िया (SBI) के ग्राहक हैं तो यह खबर आपके ल‍िए है

SBI Hikes MCLR:सबसे बड़े सरकारी बैंक ने ग्राहकों को झटका देते हुए मार्ज‍िनल कॉस्‍ट ऑफ लेंड‍िंग रेट (MCLR) में 10 बेस‍िस प्‍वाइंट का इजाफा कर द‍िया है. बैंक की वेबसाइट के अनुसार यह यह बदलाव 15 अप्रैल से प्रभावी हो गया है.

SBI Hikes MCLR : अगर आप स्‍टेट बैंक ऑफ इंड‍िया (SBI) के ग्राहक हैं तो यह खबर आपके ल‍िए है

सबसे बड़े सरकारी बैंक ने ग्राहकों को झटका देते हुए मार्ज‍िनल कॉस्‍ट ऑफ लेंड‍िंग रेट (MCLR) में 10 बेस‍िस प्‍वाइंट का इजाफा कर द‍िया है. बैंक की वेबसाइट के अनुसार यह यह बदलाव 15 अप्रैल से प्रभावी हो गया है.


बढ़ जाएगी लोन की ईएमआई

MCLR में की गई बढ़ोतरी से होम लोन (Home Loan), पर्सनल लोन (Personal Loan) और ऑटो लोन (Auto Loan) महंगे हो जाएंगे. इससे आपकी ईएमआई पर सीधा असर पड़ेगा. एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार ग्राहकों के ल‍िए ओवरनाइट से लेकर तीन महीने तक वाले मार्जिनल कॉस्ट लेंडिंग रेट (MCLR) के लिए 6.65% के बजाय 6.75% रेट होगा.

ये रहे नए रेट

इसके अलावा 6 महीने के लिए 6.95 प्रत‍िशत की बजाय 7.05 फीसदी एमसीएलआर रहेगा. वहीं एक साल वाले MCLR के लिए 7.10%, दो साल के लिए 7.30% और तीन साल के लिए 7.40 रहेगा.

क्या होता है MCLR?

MCLR सिस्टम को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से 2016 में पेश किया गया था. यह किसी फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन के लिए एक इंटरनल बेंचमार्क है. MCLR प्रोसेस में लोन के लिए मिनिमम ब्याज दर तय की जाती है.