top of page

Gaon Ki Beti Yojana:गांव की बेटी योजना का फॉर्म कैसे भरा जाता है?

गांव की बेटी योजना मध्यप्रदेश 2024 [5000 रूपये]

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही गांव की बेटी योजना एक महत्वपूर्ण योजना है जो ग्रामीण क्षेत्र की छात्राओं को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में मदद करती है। इस योजना के तहत 12वीं कक्षा प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण छात्राओं को ₹500 प्रति माह की दर से 10 माह तक प्रतिवर्ष छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। यह छात्रवृत्ति छात्राओं को उच्च शिक्षा के लिए आवश्यक आर्थिक सहायता प्रदान करती है और उन्हें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में प्रोत्साहित करती है।

मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य की बेटियों की आर्थिक मदद के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं। बेटियों के लिए पहले ही कर चुकी है सरकार मध्य प्रदेश लाडली लक्ष्मी योजना शुरू की है जो सबसे कल्याणकारी योजनाओं में से एक है। सरकार ने राज्य के गांवों की मेधावी लड़कियों के लिए गांव की बेटी योजना शुरू की है. दोस्तों इस लेख में हम आपको गांव की बेटी योजना 2023 बताएंगे हम आपको ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया, पात्रता, दस्तावेज, उद्देश्य आदि की जानकारी प्रदान करेंगे, इसलिए आपसे अनुरोध है कि इस लेख को अंत तक पढ़ें।



गांव की बेटी योजना छात्रवृत्ति Gaon Ki Beti Scholarship


मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग द्वारा गांव की बेटी योजना शुरू की गई है। गांव की बेटी योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों की बालिकाओं को उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। यह छात्रवृत्ति ₹500 प्रति माह की दर से प्रतिवर्ष 10 माह के लिए प्रदान की जाती है। इस योजना का लाभ गांव की हर उस बालिका को प्रदान किया जाता है जिसने 12वीं कक्षा प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण की हो। इस योजना का लाभ लेने के लिए छात्र को किसी भी सरकारी कार्यालय में जाने की आवश्यकता नहीं है। इस योजना का लाभ मध्य प्रदेश छात्रवृत्ति पोर्टल पर पंजीकरण कर प्राप्त किया जा सकता है। इससे समय और धन दोनों की बचत होगी और व्यवस्था में पारदर्शिता आएगी। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए छात्रों को अपनी सामग्री आईडी दर्ज करना अनिवार्य है।

इस योजना के तहत सरकार द्वारा बालिकाओं को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। पहले इस योजना का नाम मध्य प्रदेश प्रतिभा किरण योजना था लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इस योजना का नाम गांव की बेटी योजना रखा है। इस योजना के तहत 12वीं कक्षा में 60 या इससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले छात्रों को 500 रुपये प्रति माह की छात्रवृत्ति दी जाती है और यह छात्रवृत्ति 10 महीने के लिए बालिकाओं को दी जाती है।


अगर आप भी गांव की बेटी योजना इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आपको इस योजना में आवेदन करना होगा। तकनीकी और चिकित्सा शिक्षा प्राप्त करने वाली छात्रा को 750 रुपये प्रति माह दिया जाएगा।

गाँव की बेटी योजना हिंदी में हाइलाइट

योजना का नाम

मध्य प्रदेश गांव की बेटी योजना

योजना प्रकार

राज्य सरकार की योजना

राज्य

मध्य प्रदेश

लाभार्थी

राज्य गांव की बेटियां

उद्देश्य

गांव की लड़कियों की आर्थिक मदद करना

दी जाने वाली राशि

500 रुपये प्रति माह

आधिकारिक वेबसाइट

एमपी गांव की बेटी योजना का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य की बेटियों की आर्थिक मदद करना है। आर्थिक तंगी के कारण गांव की बेटी आगे की पढ़ाई नहीं कर पा रही है। जैसा कि आप जानते हैं कि 12वीं के बाद आपको कॉलेज में पढ़ना होता है और कॉलेज शहरों में होता है, जिसके कारण कई बेटियां पैसे के अभाव में पढ़ाई छोड़ देती हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए मध्यप्रदेश सरकार ने गांव की बेटी योजना शुरू की है। इस योजना के तहत सरकार इन बेटियों को आर्थिक मदद देगी ताकि बेटियां कॉलेज में पढ़ने आ सकें।

मध्य प्रदेश गांव की बेटी योजना के लाभ

  • इस योजना का लाभ राज्य के गांवों की बेटियों को दिया जाएगा।

  • लाभार्थी बेटी को 12वीं कक्षा 60% के साथ उत्तीर्ण करने के बाद 500 रुपये प्रति माह दिए जाएंगे।

  • बेटी को दी जाने वाली गुना छात्रवृत्ति 10 माह तक दी जाएगी।

  • मेडिकल या तकनीकी क्षेत्र में पढ़ने वाली बेटी को 750 रुपये प्रति माह दिए जाएंगे।

  • गांव की बेटी योजना एमपी योजना का लाभ गांव की सभी लड़कियों को दिया जाएगा।

  • इस योजना से बालिकाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा और उनकी पढ़ाई पूरी होगी।

  • अगर आप भी एमपी गांव बेटी योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

एमपी गांव की बेटी योजना छात्रवृत्ति के लिए पात्रता और शर्तें
  • आवेदक मध्य प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।

  • इस योजना के लिए राज्य के गांव की बेटियां ही आवेदन कर सकती हैं।

  • आवेदन करने वाली बेटी का 12वीं पास होना अनिवार्य है।

  • आवेदक लड़की का 12वीं कक्षा 60% या उससे अधिक के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।

  • गांव गांव की बेटी योजना के सभी वर्ग की लड़कियां आवेदन कर सकती हैं

  • बालिका का किसी शासकीय/अशासकीय महाविद्यालय या विश्वविद्यालय में स्नातक कक्षा में अध्ययनरत होना अनिवार्य है।

  • इस स्कॉलरशिप के लिए हर साल पोर्टल http://scholarshipportal.mp.nic.in पर ऑनलाइन आवेदन मांगे जाते हैं।

  • छात्रवृत्ति की स्वीकृति संबंधित महाविद्यालय के प्राचार्य द्वारा दी जाती है।

  • लाभार्थी छात्र ग्राम पुत्री योजना एमपी इसके साथ आप अन्य योजनाओं का भी लाभ उठा सकते हैं।

गांव की बेटी योजना एमपी के लिए दस्तावेज
  • आधार कार्ड

  • आवास प्रामाण पत्र

  • पासपोर्ट साइज फोटो

  • बैंक खाता पासबुक

  • मोबाइल नंबर

  • समग्र आईडी

  • जाति प्रमाण पत्र

  • आय प्रमाण पत्र

  • कक्षा 12 की मार्कशीट

गांव की बेटी योजना ऑनलाइन कैसे लागू करें?
  • अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं और इस योजना में आवेदन करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:-

  • आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको स्टेट स्कॉलरशिप पोर्टल 2.0 की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा लेकिन इस लिंक पर क्लिक करके आप इस वेबसाइट के होम पेज पर आ जाते हैं।

  • इस पोर्टल पर आने के बाद आपको सबसे पहले पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद लॉगइन आईडी और पासवर्ड की मदद से लॉगइन करें।

  • लॉग इन करने के बाद आपके सामने गांव की लड़की का आवेदन फॉर्म दिखाई देगा। आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारियों को सही-सही दर्ज करना है, उसके बाद आपको अपने दस्तावेज अपलोड करने हैं और फॉर्म जमा करना है और इस तरह से आपका आवेदन हो जाता है।

  • राज्य छात्रवृत्ति पोर्टल 2.0 पर नया पंजीकरण करने की प्रक्रिया को समझने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - - क्लिक

गांव की बेटी योजना मध्य प्रदेश की स्थिति कैसे देखें?

  • अपने आवेदन की स्थिति देखने के लिए आपको सबसे पहले राज्य छात्रवृत्ति पोर्टल 2.0 आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा लेकिन आना होगा

  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको ट्रैक गांव की बेटी एप्लीकेशन स्टेटस का ऑप्शन दिखेगा उस पर क्लिक करें। क्लिक करने के बाद एक नया पेज खुलेगा।

  • आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा, जिसमें आपको एप्लीकेशन आईडी और एकेडमिक ईयर को सेलेक्ट करना है, उसके बाद शो माई एप्लीकेशन पर क्लिक करना है।

  • क्लिक करने के बाद आपके सामने आपके आवेदन की स्थिति आ जाएगी।

एमपी गांव की बेटी योजना ऑफलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

  • अगर आप ऑनलाइन आवेदन नहीं करना चाहते हैं तो इसके लिए ऑफलाइन भी आवेदन कर सकते हैं। ऑफलाइन आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको इस योजना का आवेदन फॉर्म डाउनलोड करना होगा। आवेदन पत्र डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:-

  • फॉर्म डाउनलोड करने के बाद आपको फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी सही से दर्ज करनी है, उसके बाद दस्तावेजों को फॉर्म के साथ अटैच करके कॉलेज में जमा कर देना है, इस तरह आपका ऑफलाइन आवेदन बन जाता है।

मुख्यमंत्री गांव की बेटी योजना छात्रवृत्ति प्रपत्र अस्वीकृत करने एवं छात्रवृत्ति नहीं मिलने के कारण

  • MP Gaon ki Beti ऑनलाइन फॉर्म के खारिज होने और छात्रवृत्ति न मिलने के कई कारण हैं जो इस प्रकार हैं।

  • यदि आपके माता-पिता का आय प्रमाण पत्र 3 वर्ष से अधिक पुराना है, तो आपका फॉर्म अस्वीकार किया जा सकता है क्योंकि आय प्रमाण पत्र 3 वर्षों के भीतर प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

  • यदि आपने प्रथम वर्ष की छात्रवृत्ति लेने के बाद महाविद्यालय छोड़ दिया है और फिर अगले वर्ष महाविद्यालय में पुनः प्रवेश लिया है। फिर दोबारा आवेदन करने के बाद आपका फॉर्म रिजेक्ट कर दिया जाएगा।

  • स्कॉलरशिप फॉर्म भरते समय कुछ गलत जानकारी देने पर भी आपका फॉर्म रिजेक्ट हो जाएगा और आपकी स्कॉलरशिप नहीं आएगी।

  • कई बार बैंक खाता डीएक्टिवेट हो जाता है या लेन-देन न होने के कारण बंद हो जाता है अगर इस वजह से भी स्कॉलरशिप नहीं आती है। फॉर्म भरने से पहले अपने बैंक खाते से लेनदेन करना सुनिश्चित करें।

  • यदि आपने गलत बैंक खाता संख्या दर्ज की है या गलत तरीके से IFSC कोड दर्ज करते हैं तो छात्रवृत्ति नहीं आती है।

  • आपने जो बैंक खाता फॉर्म में दिया है वो अगर किसी और के नाम है तो भी स्कॉलरशिप नहीं आएगी. बैंक खाता आपके नाम पर होना चाहिए।

  • आपने बैंक का नाम दर्ज किया है, लेकिन आपने किसी अन्य बैंक का IFSC कोड दर्ज किया है, आपका फॉर्म अस्वीकार कर दिया जाएगा।

निष्कर्ष:

गांव की बेटी योजना एक महत्वपूर्ण योजना है जो ग्रामीण क्षेत्र की छात्राओं को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में मदद करती है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए छात्राओं को ऑनलाइन आवेदन करना होता है। इस लेख में हमने आपको बताया कि गांव की बेटी योजना का फॉर्म कैसे भरा जाता है।

Commentaires


bottom of page