यूपी किसान : 39% प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का नहीं मिला लाभ

अपडेट किया गया: 14 दिस. 2019

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम -किसान) में पंजीकृत किसानों का डेटा सही कर लाभार्थी किसानों को पूरा लाभ देने की अंतिम तारीख समाप्त हो गई लेकिन अभी तक यहां पर 39 फीसदी पंजीकृत किसानों को योजना का पूरा लाभ नहीं मिला है। लखनऊ ही नहीं प्रदेश भर की यही तस्वीर है।



पीएम किसान योजना के तहत पंजीकृत किसानों को 30 नवम्बर तक डेटा सही करके लाभ देने का वादा पूरा नहीं हुआ है। राजधानी में देखें तो पंजीकृत और तीसरी किस्त पाने वाले किसानों के बीच 70 हजार किसानों का अंतर है। पीएम किसान पोर्टल के अनुसार 30 नवम्बर तक कुल लाभार्थी 1.79 लाख में 1.60 लाख को पहली किस्त मिली। ऐसे में ये अंतर 19 हजार है। दूसरी किस्त 1.46 लाख को मिली। अंतर बढ़कर 33 हजार हो गया। तीसरी किस्त का लाभ 70 हजार किसानों को नहीं मिला है। उधर विभाग का दावा है कि 80 फीसदी किसानों का डाटा सुधारा जा चुका है, जल्द लाभ मिल जाएगा।



पीएम किसान योजना : लोकसभा चुनाव के पहले नवम्बर-2018 में केन्द्र सरकार ने पीएम-किसान का एलान किया था। योजना में किसानों को हर वर्ष दो-दो हजार रुपए की तीन किस्ते मिलती हैं। यह पैसा सीधे किसानों के खातों में जाता है। इसका उद्देश्य खाद, बीज व कृषि उपकण खरीदने के लिए मदद करना है।


पीएम किसान पोर्टल के अनुसार

लाभार्थी पहली किस्त दूसरी तीसरी

लखनऊ 1,79778 1,60563 1,46065 1,09427

उत्तर प्रदेश 18111338 17024973 15385253 2453931


जल्द मिलेगा लाभ

उपकृषि निदेशक (लखनऊ मंडल) सीपी श्रीवास्तव बताते हैं कि सभी पात्र किसानों को जल्द ही सम्मान निधि का लाभ मिल जाएगा। त्रुटियों को ठीक कर 80 फीसदी से अधिक डेटा मंत्रालय को भेजा जा चुका है।


आधार-बैंक खाता की त्रुटि


अधिकारियों की मानें तो पहले किसानों को बिना आधार के योजना में शामिल किया गया। कई किसानों ने अपने बचत खाता की जगह केसीसी का खाता नम्बर दे दिया। कई किसानों ने दो आवेदन किए। 24,103 किसानों के नाम पीएफएमएस से वापस आए थे। 65 हजार किसानों के नाम का मिलान आधार के नाम से नहीं हो सका था।

​UP Agriculture online Registration

​पीएम किसान योजना | Kisan Net 

  • Facebook
  • Twitter
  • Pinterest
  • Tumblr Social Icon
  • Instagram

PM KISAN MOBILE APP DOWNLOAD 

2019-20  Mykisan . All Right Reserved