My Kisan News

My Kisan News,हिंदी न्यूज़,Hindi Samachar,हिंदी समाचार

My Kisan Hindi news, हिंदी न्यूज़ , Hindi Samachar, हिंदी समाचार, Latest ,Google Hindi News: Latest समाचार कवरेज, Google samachar समाचार से सम्पूर्ण विश्व भर के समाचार स्रोतों .

अगर आप भी नौकरीपेशा हैं और आपका PF कटता है तो आप इन 4 तरीकों से अपने प्रोविडेंड फंड का बैलेंस चेक कर सकते हैं. सरकार ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के 6 करोड़ कर्मचारियों के पीएफ खाते में 8.5 फीसदी की दर से ब्याज डाल दिया है. बआप अपने पीएफ खाते का बैलेंस इन 4 तरीकों से घर बैठे चेक कर सकतें हैं आइए आपको बताते हैं कैसे…
EPF Balance Check Online 

1. मिस्ड कॉल के जरिए चेक करें बैलेंस
आप अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 011 22901406 पर मिस्ड कॉल दें. इसके बाद ईपीएफओ से एक संदेश मिलेगा जिसमें आपके पीएफ खाते की डीटेल आपको मिल जाएगी. बता दें इसके लिए जरूरी है कि यूएएन से बैंक अकाउंट, पैन और आधार लिंक्ड हो.

2. SMS के जरिए इस तरह चेक करें बैलेंस
अगर आपका यूएएन ईपीएफओ के पास पंजीकृत है तो आपके लेटेस्ट कॉन्ट्रिब्‍यूशन और पीएफ बैलेंस की जानकारी एक मैसेज से मिल सकती है. इसके लिए आपको 7738299899 पर EPFOHO UAN ENG लिखकर भेजना होगा. आखरी तीन अक्षर भाषा के लिए है. अगर आपको हिंदी में जानकारी चाहिए तो आप EPFOHO UAN HIN लिखकर भेज सकते हैं. यह सेवा अंग्रेजी, पंजाबी, मराठी, हिंदी, कन्नड़, तेलुगु, तमिल, मलयालम और बंगाली में उपलब्ध है. यह एसएमएस यूएएन के पंजीकृत मोबाइल नंबर से भेजा जाना चाहिए.

3. EPFO के जरिए
>> आपको इसके लिए EPFO पर जाना है.
>> यहां Employee Centric Services पर क्लिक करें.
>> अब View Passbook पर क्लिक करें.
>> पासबुक देखने के लिए आपको UAN से लॉगइन करें.

4. उमंग ऐप के जरिए
>> अपना उमंग ऐप (Unified Mobile Application for New age Governance) खोलें और ईपीएफओ पर क्लिक करें.
>> आपको एक अन्य पेज पर इम्पलॉयी सेंट्रिक सर्विस (employee centric services) पर क्लिक करना होगा.
>> यहां व्यू पासबुक पर क्लिक करें.
>> अपना यूएएन नंबर और पासवर्ड (ओटीपी) नंबर भरें.
>> ओटीपी आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आ जाएगा.
>> इसके बाद आप अपना पीएफ बैलेंस चेक कर सकते हैं.

EPF Balance Check Online - अब PF बैलेंस जानना हुआ और भी आसान, 2 मिनट में जानें अकाउंट में कितना है पैसा

आपका PF कटता है तो आप इन 4 तरीकों से अपने प्रोविडेंड फंड का बैलेंस चेक कर सकते हैं. सरकार ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के 6 करोड़ कर्मचारियों के पीएफ खाते में 8.5 फीसदी की दर से ब्याज डाल दिया है. बआप अपने पीएफ खाते का बैलेंस इन 4 तरीकों से घर बैठे चेक कर सकतें हैं आइए आपको बताते हैं कैसे…

Farm Laws Update:संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन ही संसद में कृषि कानून को वापस ले लिया गया. कृषि कानून वापसी बिल को पहले लोकसभा में 12 बजे पेश किया गया, जिसे बिना चर्चा के चार मिनट के भीतर पास कर दिया गया. वहीं, विपक्ष चर्चा को लेकर इस पर अड़ा रहा. इसके बाद सदन को मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया. लोकसभा के बाद दोपहर 2 बजे राज्यसभा में बिल पेश किया गया, वहां भी कुछ ही मिनट में इसे पास कर दिया गया
Krishi kanoon news today In hindi
3 krishi kanoon kya hai in hindi
Krishi kanoon bill in Hindi PDF

Farm Laws Update:कृषि कानून वापसी बिल लोकसभा में पास

कृषि कानून वापसी बिल लोकसभा में पास
कृषि कानून वापसी बिल लोकसभा में पास किए जाने के बाद सदन की कार्यवाही को दोपहर 2 बजे तक स्थगित किया गया.

Harnaaz Kaur Sindhu Miss Universe 2021:70वां मिस यूनिवर्स पेजेंट इस साल 12 दिसंबर को इजराइल के इलियट में आयोजित किया गया था, जिसमें 21 साल बाद भारत ने इस खिताब को अपने नाम कर एक बार फिर इतिहास रच दिया है। पंजाब की हरनाज संधू (Harnaaz Sandhu) ने 75 से ज्यादा देशों से आई खूबसूरत और प्रतिभाशाली महिलाओं को पछाड़ते हुए मिस यूनिवर्स का ताज अपने नाम कर लिया। हरनाज ने टॉप 3 में मिस साउथ अफ्रीका और मिस पराग्वे को मात देते हुए ब्रह्माण्ड सुंदरी के खिताब को जीता है। अब बात आती है उस सवाल की जिसका जवाब देकर हरनाज ने सिर्फ जजों का ही नहीं बल्कि हर किसी का दिल जीत लिया। बता दें कि इस बार उर्वशी रौतेला ने मिस यूनिवर्स 2021 के कॉन्टेस्ट को जज किया।

Harnaaz Kaur Sindhu Miss Universe 2021: भारत की हरनाज सिंधू बनी मिस यूनिवर्स

Miss Universe 2021: भारत की हरनाज सिंधू बनी मिस यूनिवर्स

Kashi Vishwanath Corridor: काशी विश्‍वनाथ कॉरिडोर प्रोजेक्ट का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 8 मार्च 2019 को किया था, एक अध्यादेश के जरिए उत्तर प्रदेश सरकार ने मंदिर पर क्षेत्र को विशिष्‍ट क्षेत्र घोषित किया था. जिसके बाद आसपास के कई भवनों को अधिग्रहित किया था.
Kashi Vishwanath Corridor: काशी विश्‍वनाथ कॉरिडोर का आज पीएम मोदी (PM Modi) लोकार्पण करने जा रहे हैं. आखिर काशी विश्‍वनाथ कॉरिडोर की खास बातें क्‍या  है?  इस बारे में हम आपको विस्‍तार से बताने जा रहे हैं. काशी विश्‍वनाथ धाम करीब 5 लाख स्‍कवॉयर फीट में बना हुआ है.
 इस भव्य कॉरिडोर में छोटी-बड़ी 23 इमारतें और 27 मंदिर हैं. 
इस पूरे कॉरिडोर को लगभग 50,000 वर्ग मीटर के एक बड़े परिसर में बनाया गया है.इस कॉरिडोर को 3 भागों में बांटा गया है. इसमें 4 बड़े-बड़े गेट और प्रदक्षिणा पथ पर संगमरमर के 22 शिलालेख लगाए गए हैं.जिसमें काशी की महिमा का वर्णन  है 
इसके अलावा इस कॉरिडोर में मंदिर चौक, मुमुक्षु भवन, तीन यात्री सुविधा केंद्र, चार शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, मल्टीपरपस हॉल, सिटी म्यूजियम, वाराणसी गैलरी जैसी सुख-सुविधाओं की भी व्यवस्था की गई है.
काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में अगर गोदौलिया वाले गेट से कोई एंट्री करेगा तो यूटिलिटी भवन, सिक्योरिटी ऑफिस मिलेगा
इसके अलावा यात्री सुविधा केंद्र नंबर 1 और 2 सरस्वती फाटक की तरफ हैं
इसमें चुनार के गुलाबी पत्थर, मकराना के सफेद मार्बल और वियतनाम के खास पत्थरों का इस इस्‍तेमाल किया गया है 
250 साल के बाद मंदिर का पहली बार जीर्णोद्धार हुआ है
इस कॉरिडोर के बनने के बाद  श्रद्धालु 50 फीट की सड़क से गंगा किनारे से बाबा विश्‍वनाथ के दर्शन कर सकेंगे
काशी विश्वनाथ धाम में महादेव के प्रिय पौधे रुद्राक्ष, बेल, पारिजात, वट और अशोक लगाए जाएंगे 
बाबा विश्‍वनाथ मंदिर के लिए प्रसाद तैयार हो रहा है, जो 8 लाख से ज्यादा परिवारों में वितरित होगा

Kashi Vishwanath Corridor Inauguration

Kashi Vishwanath Corridor Inauguration:काशी विश्‍वनाथ कॉरिडोर प्रोजेक्ट का शिलान्यास

mutual fund kya hai ? 

म्यूच्यूअल फंड एक तरह का फंड होता है जिसमें बहुत से लोग निवेश करते हैं म्यूच्यूअल फंड भी कुछ कुछ RD  और FD के जैसा होता है। लेकिन जहां दूसरे फंड में लोगों को ज्यादा सिक्योरिटी मिलती है वही म्युचुअल फंड में सिक्योरिटी थोड़ी कम रहती है। हां यह बात अलग है कि म्यूच्यूअल फंड में दूसरे फंड के मुकाबले रिक्स थोड़ा ज्यादा रहता है म्यूच्यूअल फंड में जितना ज्यादा रिक्स होता है उतना ही ज्यादा रिटर्न भी मिलता है। इसीलिए आज करोड़ों की संख्या में लोग म्यूच्यूअल फंड में निवेश करते हैं। म्यूच्यूअल फंड बी बैंक के तरह ही पूरी तरह सुरक्षित है क्योंकि इसका पूरा नियंत्रण सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया यानी कि सेबी के पास होता है। 



म्यूच्यूअल फंड कितने तरह के होते हैं ? 

संरचना के अनुसार म्यूच्यूअल फंड निम्न तरह के होते हैं - 

•ओपन एंडेड स्कीम 
•क्लोज्ड एंडेड स्कीम 
•इंटरवल स्कीम 

Assets के अनुसार म्यूच्यूअल फंड निम्न तरह के होते हैं - 

Equity fund
Debt fund
Mini Market liquid fund

म्यूचुअल फंड के फायदे क्या है ? 

म्यूचुअल फंड में निवेश करने से भारी रिटर्न प्राप्त होता है। 

म्यूचुअल फंड में कई अलग-अलग तरह की योजनाएं मिलती हैं। 

म्यूचुअल फंड में लिक्विडिटी यानि जब चाहें तब पैसे निकालने की सुविधा होती हैं। 

छोटे अमाउंट में इन्वेस्ट करने की सुविधा। 

म्यूचुअल फंड में निवेश करना काफी आसान होता है।

म्यूचुअल फंड के नुकसान क्या है ? 

म्यूचुअल फंड में निवेश करने के जहां कुछ फायदे हैं तो वहीं कुछ नुकसान भी है - 

म्यूचुअल फंड में रिस्क बहुत ज्यादा होता है। 

शेयर मार्केट की जानकारी के अभाव में पैसे डूबने के बहुत ज्यादा चांस होते हैं। 

म्यूचुअल फंड में लॉकइन पीरियड भी होता है उसमें पैसे निवेश कर देना सिर्फ जरूरत के समय पैसे निकालने में तकलीफ होती है। ‌

म्यूचुअल फंड में निवेश करने से ब्रोकर को भी फीस देना पड़ता है। 

म्यूचुअल फंड में निवेश कैसे करें ? 

म्यूचुअल फंड में निवेश करने के बहुत से तरीके होते हैं जहां पहले म्यूचुअल फंड में निवेश करना मुश्किल होता था वही आज ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से निवेश करना बहुत ही ज्यादा आसान हो गया है। Mutual फंड में निवेश करने के लिए आप ET Money App, Groww App, My CAMS App जैसे एप्लिकेशन का उपयोग कर सकते हैं।

Mutual फंड में इन्वेस्ट करके टैक्स कैसे बचाया जा सकता है ? 

अगर आपको ऐसा लगता है कि आपका कमाया हुआ ज्यादातर पैसा टैक्स भरने में चला जाता है तो बता दें म्यूच्यूअल फंड अपने निवेशकों को टैक्स सेविंग म्युचुअल फंड की भी सुविधा देता है इसके अंतर्गत निवेशक 3 साल के लिए अपना पैसा म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट कर देता है इन 3 सालों में निवेशक Mutual फंड से अपना पैसा बाहर नहीं निकाल सकते हैं।

क्योंकि इस दौरान निवेशक का पैसा लॉकइन इन होता है लेकिन जब लॉकइन का पीरियड खत्म हो जाता है तब निवेशक अपना पैसा वापस प्राप्त कर सकते हैं भारत में बहुत से ऐसे लोग हैं जो इस तरीके को अपनाकर अपना पैसा बचाते हैं। 

म्यूचुअल फंड में कौन-कौन से तरीकों से इन्वेस्टिंग की जा सकती है ? 

म्यूच्यूअल फंड की सबसे अच्छी बात यह है कि म्यूच्यूअल फंड में दो तरह से इन्वेस्टिंग की जा सकती हैं पहले तरीके में आप एक बार में सारा पैसा इन्वेस्ट कर सकते हैं और दूसरे व सबसे पॉपुलर तरीका है SIP। 

इसके अंतर्गत आप हर महीने इंस्टॉलमेंट के तरह Mutual फंड में अपने पैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं। लंबे समय तक compounding effect का फायदा लेने के लिए ज्यादातर निवेशक Mutual फंड में पैसा इन्वेस्ट करने के लिए दूसरा तरीका ही चुनते हैं। जिससे अच्छे खासे समय के बाद निवेशकों को काफी भारी लाभ मिलता है।

Mutual Fund :म्यूचुअल फंड में क्या फायदा है?

mutual fund kya hai ? types of mutual funds in hindi mutual fund kya hai ?

म्यूच्यूअल फंड एक तरह का फंड होता है जिसमें बहुत से लोग निवेश करते हैं म्यूच्यूअल फंड भी कुछ कुछ RD और FD के जैसा होता है।

PM Kisan 10th Installment Out today: PM Kisan Yojna Update: नये साल पर किसानों को सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को पीएम किसान सम्मान निधि योजना की दसवीं किस्त जारी कर दी है। पीएम ने आज 10 करोड़ 9 लाख किसानों के खाते में 20,946,77,28,000 करोड़ रुपये ट्रांसफर किया है

 pm kisan beneficiary status लिस्ट में ऐसे चेक करें अपना नाम

स्टेप-1: वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं। 
स्टेप-2: होम पेज पर Menu बार देखें और यहां ‘Farmers Corner’ पर जाएं। 
स्टेप-3:यहां ‘लाभार्थी सूची’ (Beneficiary List) के लिंक पर क्लिक करें।
स्टेप-4:इसके बाद अपना राज्य, जिला, उप-जिला, ब्लॉक और गांव विवरण दर्ज करें
स्टेप-5:इतना भरने के बाद Get Report पर क्लिक करें और पाएं पूरी लिस्ट

PM Kisan Samman Nidhi Yojana की 10वीं किस्त जारी- ऐसे चेक कर सकेंगे स्टेटस

PM Kisan 10th Installment Out today: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम किसान सम्मान निधि की 10वीं किस्त की जारी, लिस्ट में ऐसे चेक करें अपना नाम PM Kisan
10th Installment Out

PM Kisan Yojana Latest Update: पीएम किसान योजना के नियमों में केंद्र सरकार ने एक और बड़ा बदलाव किया है. योजना में फर्जीवाड़ा करने वालों पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने नियम बदले हैं. 

मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में राशन कार्ड अनिवार्य कर दिया है. अब बगैर राशन कार्ड योजना का लाभ नहीं मिलेगा.

राशन कार्ड नंबर देना हुआ अनिवार्य
पीएम किसान योजना के तहत नए रजिस्ट्रेशन कराने पर राशन कार्ड नंबर देना अनिवार्य कर दिया गया है. 

राशन कार्ड का नंबर आने के बाद परिवार में किसी एक सदस्य को किसान सम्मान निधि मिलेगी. बिना इसके किसानों को अगली किस्त नहीं मिलेगी.
हार्ड कॉपी जमा कराने की अनिवार्यता खत्म

अब पहली बार पीएम किसान योजना के तहत रजिस्ट्रेशन कराने पर राशन कार्ड नंबर अपलोड करना होगा. इसके साथ ही पीडीएफ भी अपलोड करना होगा. हालांकि, सरकार ने एक राहत दी है. 
अब आधार कार्ड, बैंक पासबुक, खतौनी और घोषणा पत्र की हार्ड कॉपी जमा करने की अनिवार्यता खत्म कर दी गई है.

अब सिर्फ इन डॉक्युमेंट्स की पीडीएफ फाइल बनाकर पोर्टल पर अपलोड करनी होगी.

PM Kisan Yojana में ये डॉक्युमेंट हुआ अनिवार्य, इसके बिना नहीं आएगी 2000 रुपये की किस्त

PM Kisan Samman Nidhi Yojana में ये डॉक्युमेंट हुआ अनिवार्य, इसके बिना नहीं आएगी 2000 रुपये की किस्त

कहां जाकर रुकेगी ये महंगाई? 

दरअसल, अक्सर लोग जब पेट्रोल पंप (Petrol Pump) पर जब गाड़ी में तेल डलवाने पहुंचते हैं, तो उन्हें पता चलता है कि उस दिन फिर कीमतों में कुछ पैसे की बढ़ोतरी हो चुकी है. लेकिन वही पैसे कुछ दिन में बढ़कर रुपये का शक्ल ले लेता है. पिछले सालभर के आंकड़ों को देखें तो पेट्रोल और डीजल की कीमतें बेतहाशा बढ़ी हैं. लोगों का एक ही रोना है कि पिछले एक साल में आमदनी तो नहीं बढ़ी, लेकिन पेट्रोल-डीजल के भाव आसमान में पहुंच गए. 

 
ताजा सूरतेहाल

Petrol Diesel Price Today: सबस पहले ताजा भाव बताते हैं. 31 अक्टूबर 2021 को पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) की कीमतों में 35 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई थी. रेट में इस बदलाव के साथ ही अक्टूबर महीने के आखिरी दिन दिल्ली में पेट्रोल का भाव 109.34 रुपये प्रति लीटर हो गया है. जबकि दिल्ली में डीजल का रेट 98.07 रुपये प्रति लीटर है. वहीं मुंबई में पेट्रोल 115.15 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है. जबकि मुंबई में डीजल अब 106.23 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है. 

           
                                            31 Oct 2021	                            01 Jan 2021	                                01 Nov 2020
Petrol (DELHI)	           RS 109.34	                             RS 83.71	                                          RS 81.06
Diesel (DELHI)	           RS  98.07	                                     RS 73.87	                                  RS 70.46
Petrol (MUMBAI)	   RS 115.15	                                     RS 90.34	                                   RS 87.74
Diesel (MUMBAI)	   RS 106.23	                             RS 80.51	                                           RS 76.86
साल-2021 का लेखा-जोखा

इस साल अब तक पेट्रोल और डीजल के दाम बेतहाशा बढ़े हैं. पहली जनवरी (01 January 2021) को दिल्ली में पेट्रोल का भाव 83.71 रुपये प्रति लीटर था, जबकि दिल्ली में डीजल नए साल के पहले दिन 73.87 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था. इस हिसाब से साल 2021 में पेट्रोल अब तक दिल्ली में 25.63 रुपये लीटर महंगा हो चुका है. जबकि डीजल के दाम साल 2021 में 24.20 रुपये लीटर बढ़ चुके हैं. 

इसी तरह मुंबई में 01 January 2021 को पेट्रोल 90.34 रुपये लीटर था, जबकि डीजल का रेट 80.51 रुपये प्रति लीटर था. मुंबई में इस साल अब तक पेट्रोल 24.81 रुपये लीटर बढ़ चुका है. जबकि डीजल का भाव इस साल बीते 10 महीनों के अंदर 29.37 रुपये महंगा हुआ है. 

एक साल में 30 फीसदी तक बढ़े दाम 

अगर पिछले एक साल की तुलना करें तो दिल्ली में पेट्रोल 28.28 रुपये लीटर और डीजल 27.61 रुपये लीटर महंगा हो चुका है. दिल्ली में ठीक एक साल पहले 01 नवंबर 2020 को पेट्रोल 81.06 रुपये और डीजल 70.46 रुपये प्रति लीटर था. जबकि महानगरी मुंबई में पेट्रोल एक साल में 27.41 रुपये लीटर और डीजल 29.37 रुपये लीटर बढ़ चुका है. पिछले एक साल में कीमतें 30 फीसदी से ज्यादा बढ़ चुकी हैं. ऐसे में आम आदमी को परेशान होना लाजिमी है.

Petrol Diesel Price 2021: कहानी पेट्रोल-डीजल की, एक साल में क्या से क्या हो गया !

तेल कंपनियां रोज सुबह पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel Price) की दरें तय करती हैं. अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड की कीमतों के आधार पर भारत में तेल कंपनियां (Oil Companies) कीमतें घटाती-बढ़ाती हैं. पिछले एक साल में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से लोग बेहाल हैं. यही नहीं, फिलहाल जिस तरह के हालात हैं. उससे कीमतों में कटौती की कोई उम्मीद नहीं की जा सकती है.

Sugarcane price in Uttarakhand-2021-22: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से गन्ने का एफआरपी यानी फेयर एंड रिम्यूनरेटिव प्राइस बढ़ाने के बाद अब उत्तराखंड सरकार ने भी दाम बढ़ाने का ऐलान किया है.
उत्तर प्रदेश के बाद अब उत्तराखंड ने भी गन्ना की कीमतों को बढ़ाने का ऐलान कर दिया है. अक्टूबर से शुरू हुई पिराई सीजन के लिए उत्तराखंड में गन्ने का मूल्य 355 रुपये तय किया गया है. इससे पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने 25 रुपए प्रति क्विंटल तक गन्ने का दाम बढ़ाने का ऐलान किया था. अब गन्ना किसानों को 325 की जगह 350 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से भुगतान किया जा रहा है. सामान्य गन्ने के लिए 315 के बजाय 340 रुपए का भुगतान होगा. हालांकि किसान 400 रुपए प्रति क्विंटल रुपए की मांग कर रहे थे.
ganna mulya Uttarakhand 2021-22
आपको बता दें कि एफआरपी वह न्यूनतम दाम होते है, जिस पर चीनी मिलों को किसानों से गन्ना खरीदना होता है. कमीशन ऑफ एग्रीकल्चरल कॉस्ट एंड प्राइसेज (सीएसीपी) हर साल एफआरपी की सिफारिश करता है.
सीएसीपी गन्ना सहित प्रमुख कृषि उत्पादों की कीमतों के बारे में सरकार को अपनी सिफारिश भेजती है. उस पर विचार करने के बाद सरकार उसे लागू करती है. सरकार गन्ना (नियंत्रण) आदेश, 1966 के तहत एफआरपी तय करती है.

पंजाब हरियाणा में भी बढ़ चुके है दाम

हरियाणा (Haryana) सरकार ने भी गन्ने के मूल्य (Sugarcane Price) में बढ़ोत्तरी कर दी है. अब यहां किसानों को 362 रुपये क्विंटल का रेट मिल रहा है. अब गन्ने की अगेती किस्म के लिए 362 रुपये प्रति क्विंटल व पछैती किस्म के लिए 355 रुपये प्रति क्विंटल का भाव दिया जा रहा है.  जोकि पहले 340 रुपये था. गन्ना नियंत्रण बोर्ड की बैठक में इसका फैसला लेता है. इस वृद्धि के साथ ही हरियाणा देश में सबसे अधिक गन्ना मूल्य देने वाला राज्य बन गया है.पिछले दिनों पंजाब सरकार ने 360 रुपये का रेट घोषित किया था.

एफआरपी (FRP) और एसएपी (SAP) में क्या अंतर होता है?
एफआरपी बढ़ाने का फायदा देश के सभी गन्ना किसानों को नहीं होता है. इसकी वजह यह है कि गन्ना का ज्यादा उत्पादन करने वाले कई राज्य गन्ना की अपनी-अपनी कीमतें तय करते हैं.

इसे स्टेट एडवायजरी प्राइस (एसएपी) कहा जाता है. उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा अपने राज्य के किसानों के लिए अपना एसएपी तय करते हैं. आम तौर पर एसएपी केंद्र सरकार के एफआरपी से ज्यादा होता है.

अगर आसान शब्दों में कहें तो दाम बढ़ाने के बाद नई एफआरपी  290 रुपये प्रति क्विटंल हो जाएगी. जबकि, उत्तर प्रदेश सरकार ने बीते साल एसएपी के तौर पर 315 रुपये प्रति क्विंटल के दाम तय किए.

सामान्य किस्म के गन्ना के लिए 315 रुपये प्रति क्विटंल है. इस तरह केंद्र सरकार के एफआरपी बढ़ाने का उन राज्यों के किसानों को कोई फायदा नहीं होगा, जहां एसएपी की व्यवस्था है.

Sugarcane Price in Uttarakhand 2021-22:गन्ने की खेती करने वाले किसानों को सरकार ने दिया तोहफा- 355 रुपये प्रति क्विटंल तय किए दाम

गन्ने की खेती करने वाले किसानों को इस राज्य सरकार ने दिया तोहफा- 355 रुपये प्रति क्विटंल तय किए दाम

Sugarcane price in UP:गन्ना समर्थन मूल्य उत्तर प्रदेश 2021-22

Sugarcane price in UP:गन्ना समर्थन मूल्य उत्तर प्रदेश 2021-22

Ganna Mulya in Uttar Pradesh गन्ना समर्थन मूल्य उत्तर प्रदेश 2021-22 अब तक गन्ने का समर्थन मूल्य ₹325 था अब ₹350 गन्ने का समर्थन मूल्य होगा. गन्ने किसानों को 8 फ़ीसदी की वृद्धि उनके आय में होगी. ... बता दें, किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए गन्ने के दाम में 25 रुपए की बढ़ोतरी का ऐलान किया है. इसके साथ ही अब 315 रुपये वाले गन्ने का मूल्य अब 340 रुपये प्रति क्विंटल होगा.

Twitter New CEO Parag Agrawal:टि्वटर के नए सीईओ जैक डोर्सी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है जैक के इस्तीफे के बाद ट्विटर बोर्ड ने भारत के पराग अग्रवाल को कंपनी का नया सीईओ बनाया है बता दें पराग अग्रवाल स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से डायरेक्टरेट की डिग्री प्राप्त की और आईआईटी बॉम्बे से स्नातक की डिग्री हासिल किया 2018 में  ट्विटर का  सीटीओ बनाया गया था  पराग,
 2011 में ट्वीटर में शामिल हुए थे

Twitter :भारत के पराग अग्रवाल बने ट्विटर के नए CEO

Twitter New CEO Parag Agrawal :टि्वटर के नए सीईओ जैक डोर्सी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है जैक के इस्तीफे के बाद ट्विटर बोर्ड ने भारत के पराग अग्रवाल को कंपनी का नया सीईओ बनाया है

प्रदेश के किसान जनपदवार निर्धारित तिथि को पंजीकरण कराकर 50% तक अनुदान पर कृषि यंत्र और 40% अनुदान पर कस्टम हायरिंग सेंटर प्राप्त कर सकते हैं. इसके लिएउन्हें दस हजार रुपए तक के अनुदान वाले कृषि यंत्रों के कोई जमानत राशि नहीं जमा करनी होगी. दस हजार रुपए से एक लाख रुपए तक अनुदान वाले कृषि यंत्रों के कोई जमानत राशि नहीं जमा करनी होगी. दस हजार रुपए से एक लाख रुपए तक अनुदान वाले कृषि यंत्रों के लिए 2500 जमा करना होगा. जबकि एक लाख रुपए से अधिक अनुदान 
अनुदान व कस्टम हायरिंग सेंटर के लिए 5000 रुपए जमा करना होगा.

प्रदेश सरकार द्वारा किसानों को सस्ती दर पर कृषि यंत्र एवं कस्टम हायरिंग सेंटर सुलभ कराने हेतु मण्डलवार पंजीकरण की सुविधा दी जा रही है।

प्रदेश के किसान भाई जनपदवार निर्धारित तिथि को पंजीकरण कराकर50% तक अनुदान पर कृषि यंत्र और40% अनुदान पर कस्टम हायरिंग सेंटर प्राप्त कर सकते हैं। pic.twitter.com/UitSZNyR0V

UP Agricultural Machinery On Subsidy:किसान पंजीकरण कराकर 50% तक अनुदान पर कृषि यंत्र और 40% अनुदान पर

कृषि क्षेत्रों में जैसे-जैसे किसान नई तकनीकों की तरफ रूख कर रहे हैं, वैसे-वैसे खेती-किसानी में कृषि यंत्रों की मांग भी बढ़ती जा रही है. आज के दौर में बिना कृषि यंत्रों के खेती की कल्पना ही नहीं की जा सकती है. इसी को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों को सस्ती दर पर कृषि यंत्र एवं कस्टम हायरिंगसेंटर मण्डलवार पंजीकरण की सुविधा दे रही है.