My Kisan Hindi Blog

  • Admin

PMJAY:Ayushman Bharat Yojana

Ayushman Bharat Yojana (ABY) में समाज के कमजोर वर्ग को लोगों को हेल्थ इंश्योरेंस की सुविधा मिलती है. एबीवाई को pradhan mantri jan arogya yojana (PMJAY) भी कहा जाता है. इसके तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा मिल रहा है.

अगर आप आयुष्मान योजना (Ayushman Bharat Yojana) के लाभार्थी हैं या फिर जल्द ही अपना पंजीकरण कराने जा रहे हैं तो मोदी सरकार ने आपको बड़ी राहत दी है. अब पात्रता कार्ड (Entitlement Card) को फ्री कर दिया गया है जबकि पहले इस पर 30 रुपये का शुल्क लगता था. मोदी सरकार के इस फैसले से गरीब परिवारों को काफी राहत मिलेगी.


क्या है आयुष्मान कार्ड बनवाने की प्रक्रिया
आप किसी भी सरकारी अस्पताल में आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं.
आप सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पतालों में भी आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं.
आप निशुल्क हेल्पलाइन नंबर 180018004444 पर कॉल करके भी आयुष्मान कार्ड योजना से जुड़ी सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं. 
आप नजदीकी जन सेवा केंद्र जाकर भी आयुष्मान कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं.

आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड (Ayushman Bharat Golden Card)

आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड (Ayushman Bharat Golden Card) एक ऐसा कार्ड है जिसकी मदद से देश का कोई भी आदमी आयुष्मान भारत योजना में चुने गए सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटलों में 5 लाख रुपये तक का अपना मुफ्त इलाज करवा सकता है.

यह गोल्डन कार्ड उन गरीब लोगों को मिलेगा जो आयुषमान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojana) में आते हैं. भारत सरकार द्वारा आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड (Golden Card) बनवाने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाया जा सकता है. कोई भी व्यक्ति जन आरोग्य योजना (PM Jan Arogya Yojana) के तहत अप्लाई करने के बाद गोल्डन कार्ड को डाउनलोड भी कर सकता है या उसका प्रिंट निकलवा सकता है

आयुष्मान भारत योजना बता दें कि आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को बीमारी के इलाज के लिए भारत सरकार ने आयुष्मान भारत योजना शुरू की थी. इस योजना के तहत गरीब और मजदूर वर्ग के लोग सरकारी या प्राइवेट हॉस्पिटल में 5 लाख रुपये तक का इलाज बिल्कुल मुफ्त करवा सकते हैं. इलाज का पूरा खर्च केंद्र सरकार उठाती है. यह योजना देश सबसे बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है. यह गोल्डन कार्ड योजना भी इसी स्कीम का एक हिस्सा है.

आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड देश के हर ग्रामीण और शहरी इलाकों में बनाए जा रहे हैं.



आयुष्मान भारत योजना के तहत सर्जरी, मेडिकल डे केयर ट्रीटमेंट, डायग्रोस्टिक समेत 1350 उपचार करवाए जा सकते हैं. अब इस योजना में 19 तरह के आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक, यूनानी और योग उपचार को भी शामिल किया गया है.

क्या आप बनवा सकते हैं गोल्डन कार्ड आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए कुछ सीमा सरकार ने बनाई हुई हैं.

सबसे पहले हमें यह जानना होगा कि कौन इस गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए पात्र है.

  • इसके लिए सबसे पहले आपको प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की वेबसाइट pmjay.gov.in पर जाना होगा. यहां आपको Am I Eligible ऑप्शन दिखाई देगा. इस पर क्लिक करें.

  • अब यहां आपको अपना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और वहां दिखाए जाने वाले कैप्चा कोड को दर्ज करना है. कैप्चा कोड भरने के बाद आपको ओटीपी जनरेट करने के लिए लिंक पर क्लिक करना होगा. यहां क्लिक करते ही मोबाइल फोन एक ओटीपी आ जाएगा. अब इस ओटीपी को वेबसाइट पर दर्ज कर दें.

  • यहां आपको एक ऑप्शन में राज्य का नाम और दूसरे ऑप्शन में कैटेगरी जैसे- सर्च बाई नेम या सर्च बाई एचएचडी नंबर भरना होगा.

  • अगर आप सर्च बाई नेम ऑप्शन पर क्लिक करते हैं तो आपका नाम, पिता-माता का नाम, उम्र, जिला जैसी जानकरी दर्ज करनी होंगी.

  • कोई ऑप्शन चुनकर उसमें मांगी गई सारी जानकारी दर्ज कर दें. जानकारी दर्ज करते ही आपके सामने रिजल्ट आ जाएगा कि आप गोल्डन कार्ड के लिए पात्र हैं या नहीं.

  • Ayushman Bharat Golden card print download kare Golden Card Download करने के लिए आपको pmjay.gov.in वेबसाइट पर जाना होगा. यहां होम पेज पर लॉगइन ऑप्शन पर क्लिक करें. यहां आपको अपना ई-मेल आईडी और पासवर्ड डालकर लॉगइन करना होगा. अब नए पेज पर आधार नंबर दर्ज करने का ऑप्शन आएगा.

  • पेज सबमिट करने के बाद आपके सामने अप्रूव्ड बेनिफिशियरी का ऑप्शन दिखाई देगा. इसऑप्शन को क्लिक करने से आपका गोल्डन कार्ड अप्रूव्ड हो जाएगा.

  • आपके सामने एक लिस्ट होगी, इस लिस्ट में अपना नाम खोज लें. नाम खोजने के बाद उसका एक प्रिंट ले लें.


क्या है आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) का लक्ष्य? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'प्रधानमंत्री जन आरोग्य' योजना (आयुष्मान भारत योजना यानी एबीवाई) की घोषणा की है. इसे पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर 25 सितंबर से देशभर में लागू कर दिया गया है. सरकार Ayushman Bharat Yojana के माध्यम से गरीब, उपेक्षित परिवार और शहरी गरीब लोगों के परिवारों को स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराना चाहती है. सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना (एसईसीसी) 2011 के हिसाब से ग्रामीण इलाके के 8.03 करोड़ परिवार और शहरी इलाके के 2.33 करोड़ परिवार आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) के दायरे में आयेंगे. इस तरह पीएम जय के दायरे में 50 करोड़ लोग आएंगे. आयुष्मान भारत योजना (ABY) में हर परिवार को सालाना पांच लाख रुपये का मेडिकल इंश्योरेंस मिल रहा है. साल 2008 में यूपीए सरकार द्वारा लांच राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (NHBY) को भी आयुष्मान भारत योजना (PM-JAY) में मिला दिया गया है.

Ayushman Bharat योग्यता का निर्धारण कैसे होता है?

SECC के आंकड़ों के हिसाब से आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) में लोगों को मेडिकल इंश्योरेंस मिल रहा है. एसईसीसी के आंकड़ों के हिसाब से ग्रामीण इलाके की आबादी में D1, D2, D3, D4, D5 और D7 कैटेगरी के लोग आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) में शामिल किये गए हैंशहरी इलाके में 11 पूर्व निर्धारित पेशे/कामकाज के हिसाब से लोग आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) में शामिल हो सकते हैं. राज्यों में राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना में पहले से शामिल लोग खुद ही आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) में शामिल हो गए हैं. ग्रामीण इलाके के लिए एबीवाई की योग्यता आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) में शामिल होने के लिए मोटे तौर पर ये योग्यता हैं:.

ग्रामीण इलाके में कच्चा मकान, परिवार में किसी व्यस्क (16-59 साल) का नहीं होना, परिवार की मुखिया महिला हो, परिवार में कोई दिव्यांग हो, अनुसूचित जाति/जनजाति से हों और भूमिहीन व्यक्ति/दिहाड़ी मजदूर इसके अलावा ग्रामीण इलाके के बेघर व्यक्ति, निराश्रित, दान या भीख मांगने वाले, आदिवासी और क़ानूनी रूप से मुक्त बंधुआ आदि खुद आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) में शामिल हो जायेंगे. शहरी इलाके के लिए एबीवाई की योग्यता आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) में शामिल होने के लिए मोटे तौर पर ये योग्यता हैं: भिखारी, कूड़ा बीनने वाले, घरेलू कामकाज करने वाले, रेहड़ी-पटरी दुकानदार, मोची, फेरी वाले, सड़क पर कामकाज करने वाले अन्य व्यक्ति. कंस्ट्रक्शन साईट पर काम करने वाले मजदूर, प्लंबर, राजमिस्त्री, मजदूर, पेंटर, वेल्डर, सिक्योरिटी गार्ड, कुली और भार ढोने वाले अन्य कामकाजी व्यक्ति स्वीपर, सफाई कर्मी, घरेलू काम करने वाले, हेंडीक्राफ्ट का काम करने वाले लोग, टेलर, ड्राईवर, रिक्शा चालक, दुकान पर काम करने वाले लोग आदि आयुष्मान भारत योजना (ABY) में शामिल होंगे


इसे भी पढ़ें: PM-Kisan किसान सम्मान निधि योजना का पैसा कैसे चेक करें


Ayushman Bharat Yojana ke benifit

आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) का लाभार्थी अस्पताल में एडमिट होने के लिए कोई चार्ज नहीं चुकाएगा. अस्पताल में दाखिल होने से लेकर इलाज तक का सारा खर्च इस योजना में कवर किया जायेगा.

आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) के लाभ में अस्पताल में दाखिल होने से पहले और बाद के खर्च भी कवर किये जायेंगे.

पैनल में शामिल हर अस्पताल में एक आयुष्मान मित्र होगा. वह मरीज की मदद करेगा और उसे अस्पताल की सुविधाएं दिलाने में मदद करेगा. अस्पताल में एक हेल्प डेस्क भी होगा जो दस्तावेज चेक करने, स्कीम में नामांकन के लिए वेरिफिकेशन में मदद करेगा.

आयुष्मान भारत योजना में शामिल व्यक्ति देश के किसी भी सरकारी/पैनल में शामिल निजी अस्पताल में इलाज करा सकेगा.

इसे भी पढ़ें: Coronavirus : क्या है कोरोना वायरस, जानें लक्षण