top of page

Bhulekh:खसरा और खतौनी में क्या अंतर है?

Bhulekh: खसरा और खतौनी में क्या अंतर है? जानें भूलेख पोर्टल के माध्यम से ,खसरा और खतौनी दोनों ही भूमि के रिकार्ड और कानूनी दस्तावेज़ हैं, लेकिन इन दोनों में थोड़ा अंतर होता है।

Bhulekh:खसरा और खतौनी में अंतर

खसरा और खतौनी दोनों ही भूमि के रिकार्ड और कानूनी दस्तावेज़ हैं, लेकिन इन दोनों में थोड़ा अंतर होता है। खसरा भूमि के नक्शे और विस्तार से संबंधित होता है, जबकि खतौनी भूमि के मालिकी हक़ को स्थापित करने के लिए कानूनी दस्तावेज़ है। इस लेख में, हम खसरा और खतौनी के महत्वपूर्ण अंतरों को समझेंगे और यह कैसे प्राप्त किए जा सकते हैं, उस पर चर्चा करेंगे

खसरा और खतौनी दोनों ही भूमि के रिकार्ड और कानूनी दस्तावेज़ हैं, लेकिन इन दोनों में थोड़ा अंतर होता है।


खसरा

  • खसरा एक भूमि के पंजीकरण और विवरण का दस्तावेज़ है।

  • यह भूमि के विवरण, जैसे कि उपयोग, आकार, स्वामित्व विवरण, और पूर्व मालिकी रिकार्ड को शामिल करता है।

  • खसरा खेती और भूमि संबंधी विवरणों को नोट करने के लिए उपयोग होता है।

  • यह भूमि का पंजीकरणीकरण के लिए महत्वपूर्ण होता है और यह भूमि की जानकारी को संग्रहीत करता है।


खतौनी

  • खतौनी भूमि के लिए एक लेखा-जोखा दस्तावेज़ है।

  • इसमें संबंधित जमीन के किसानों और उनके कार्यों का विवरण शामिल होता है।

  • यह भूमि के उपयोग, खेती, खेत मापन, उपज, कर और राजस्व संबंधी विवरण जैसे विवरणों को संकलित करता है।

  • खतौनी किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण दस्तावेज़ होती है जो उनकी भूमि के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करती है।

  • यह भूमि के कार्यों, उपज, और करों का लेखा-जोखा रखने के लिए उपयोग होती है।


संक्षेप में कहें तो, खसरा भूमि के पंजीकरण का दस्तावेज़ होता है जबकि खतौनी भूमि के लेखा-जोखा का दस्तावेज़ होती है।


खसरा और खतौनी दोनों ही महत्वपूर्ण भूमि अभिलेख हैं जो भारत में भूमि के स्वामित्व और अधिकारों को दर्ज करते हैं। इन दस्तावेजों को समझना महत्वपूर्ण है ताकि आप अपनी भूमि के अधिकारों को समझ सकें और अपने भूमि संबंधी मामलों को संभाल सकें।


खतौनी कैसे देखें | Jamin Ki Jankari,UP Bhulekh, Khasra Khatoni

bottom of page